Previous
Next

Tuesday, 11 May 2021

छाँयसा में कोविड मरीजों के लिए श्री अटल बिहारी वाजपेई राजकीय मेडिकल कॉलेज का विधिवत शुभारंभ

छाँयसा में कोविड मरीजों के लिए श्री अटल बिहारी वाजपेई राजकीय मेडिकल कॉलेज का विधिवत शुभारंभ


फरीदाबाद, 11 मई। केंद्रीय सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता राज्यमंत्री कृष्णपाल गुर्जर ने कहा कि देश पर जब-जब भी कोई आपदा आई है भारतीय सेना हमेशा ढाल बनकर खड़ी रही है। चाहे देश की सीमाओं की रक्षा की बात हो या फिर देश में आज कोरोना जैसी आपदा में लोगों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं देने की बात रही हो भारतीय सेना ने हमेशा आगे बढ़कर मदद की है। केंद्रीय राज्य मंत्री मंगलवार को जिला के गांव छायंसा में श्री अटल बिहारी वाजपेई कोविड-19 मेडिकल कॉलेज के उद्घाटन अवसर पर संबोधित कर रहे थे। 

अपने संबोधन में उन्होंने बताया कि 100 ऑक्सीजन बैड के इस कोविड-19 अस्पताल का संचालन भारतीय सेना की वेस्टर्न कमांड द्वारा किया जा रहा है। इसमें 65 बेड पुरुषों के लिए व 35 बेड महिलाओं के लिए आरक्षित रखे गए हैं। जल्द ही इस अस्पताल में 35 वेंटीलेटर बेड भी लगाए जाएंगे।

उन्होंने कहा कि देश में आई कोविड-19  वैश्विक महामारी की आपदा कोराना से निपटने के लिए सेना के अधिकारी और जवान निरंतर कार्य कर रहे है। उन्होंने कहा कि इस अस्पताल की सारी व्यवस्था भी भारतीय सेना की वेस्टर्न कमांड द्वारा की गई है। केंद्रीय राज्य मंत्री कृष्णपाल गुर्जर ने कहा कि फिलहाल 100 बैडो की  कोविड-19 मेडिकल कॉलेज   मरीजों की व्यवस्था अटल बिहारी कोविड-19 मेडिकल कॉलेज में की गई है।  इस मेडिकल कॉलेज में 30 वेंटीलेटर की व्यवस्था भी की जाएगी। उन्होंने बताया कि अस्पताल के लिए 300 ऑक्सीजन गैस के सिलेंडरों की व्यवस्था की गई है। यहां 24 घण्टे एबुलेंस सेवा, ऑक्सीजन की सुचारू व्यवस्था का संचालन भी अस्पताल परिसर में किया गया है। उन्होंने कहा कि फरीदाबाद के साथ-साथ पूरे एनसीआर क्षेत्र को इसका लाभ लोगों को इसका लाभ मिलेगा।

 केन्द्रीय राज्य मंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मार्गदर्शन में देश में और मुख्यमंत्री मनोहर लाल के मार्गदर्शन में प्रदेश में कोविड-19 के संक्रमण के वैश्विक महामारी कोरोना पर काबू पाने के लिए ऑक्सीजन गैस, वेंटीलेटर तथा इस के इलाज के लिए दवाइयों सहित तमाम सुविधाएं देश और प्रदेश में लोगों के लिए की जा रही है। केंद्रीय राज्य मंत्री कृष्णपाल गुर्जर ने कहा कि स्थानीय अटल बिहारी कोविड-19 मेडिकल कॉलेज में जिला प्रशासन व आर्मी के सहयोग से बहुत अच्छी व्यवस्था की गई है। इसके अलावा प्रशासन द्वारा सराहनीय कार्य करके फरीदाबाद में कोरोना के मरीजों का बेहतर तरीके से उपचार किया जा रहा है। उसके सकारात्मक परिणाम भी आ रहे हैं। ऑक्सीजन गैस की सप्लाई की बात हो या  कोरोना के मरीजों के उपचार की बात हो जिला प्रशासन के अधिकारियों, चिकित्सा विभाग के अधिकारी व कर्मचारी आपसी तालमेल करके बेहतर सुविधाएं लोगों को दे रहे हैं। इसके लिए केंद्रीय राज्य मंत्री कृष्णपाल गुर्जर ने जिला प्रशासन का आभार भी प्रकट किया। उन्होंने कहा कि सेना के वेस्टर्न कमांड के कमांडर लैफ्टिनेंट  जनरल मनिन्दर सिंह की अगुवाई में आर्मी द्वारा छायंसा के अटल बिहारी  कोविड-19 मेडिकल कॉलेज का आज मंगलवार को संचालन कर दिया गया है। इस अवसर पर प्रदेश के परिवहन मंत्री मूलचंद शर्मा ने मेडिकल कॉलेज शुरू होने पर बधाई दी और कहा कि इससे ग्रामीण क्षेत्र के लोगों को आपदा के समय में बेहतरीन सुविधाएं मिल सकेंगी। उपायुक्त यशपाल ने कहा कि अटल बिहारी कोविड-19 मेडिकल कॉलेज में ऑक्सीजन गैस की सप्लाई प्रशासन द्वारा हर संभव मदद भारतीय सेना को दी जाएगी और कोविड-19 अस्पताल मे 30 वेंटीलेटर बेड भी आ गए हैं। डीसी यशपाल ने कहा कि प्रथम चरण में यह 100 बेड का कोविड-19 अस्पताल बनाया गया है। अगले एक माह में 100 बेड की व्यवस्था और इस अस्पताल में की जाएगी ताकि  कोरोना के उपचार की बेहतर चिकित्सा सुविधा लोगों को यहां मिले। इस अस्पताल को मात्र दो सप्ताह में तैयार करके किया गया है। उन्होंने कहा कि आज मंगलवार को अस्पताल का पूर्ण रूप से संचालन कर दिया गया है। उपायुक्त ने कहा कि इस अस्पताल में कोराना के मरीजों का प्राथमिक  उपचार किया जाएगा। यहां से रेफर होने वाले मरीजों को ईएसआई मेडिकल कॉलेज एनआईटी-5 फरीदाबाद में रेफर किया जाएगा। उन्होंने कहा कि अटल बिहारी  कोविड-19 मेडिकल कॉलेज में  जिला चिकित्सा विभाग की टीम भी सहयोग करेगी परन्तु कंट्रोल यहां पर  सेना के चिकित्सा अधिकारियों का होगा। उपायुक्त यशपाल ने आश्वासन दिया है कि अटल बिहारी कोविड-19 मेडिकल कॉलेज में ऑक्सीजन की कोई कमी नहीं रहने दी जाएगी। इस अस्पताल के तीन वार्डों के हर बेड को ऑक्सीजन लाइन से जोड़ दिया गया है। मरीजों के उपचार के लिए सारा काम सेना द्वारा किया गया है ।    इस अवसर पर भारतीय सेना के  लैफ्टिनेंट जरनल मनजिंदर सिंह वाईएसएम वीएसएन सीओएस वेस्टर्न कमांड ने कहा कि भारतीय सेना के चिकित्सकों का कोविड-19 के इलाज को लेकर अनुभव रहा है। उन्होंने कहा कि हम यहां लोगों को बेहतरीन चिकित्सा सुविधा देने का पूरा प्रयास करेंगे। उन्होंने बताया कि फिलहाल 10 डॉक्टरों की टीम अन्य नर्सिंग स्टाफ पूर्ण रूप से आर्मी का होगा। स्थानीय चिकित्सा विभाग का भी सहयोग लिया जाएगा । फिलहाल अस्पताल में 300 गैस सिलेंडर उपलब्ध है। इसके अलावा अस्पताल में 400 गैस सिलेंडर जरूरत के हिसाब से रखे जाएंगे।    इस अवसर पर  विधायक सीमा त्रिखा, विधायक नरेंद्र गुप्ता, जिला डीसीपी डा अर्पित जैन, एसडीएम परमजीत चहल, अटल बिहारी वाजपेई मेडिकल कॉलेज के डायरेक्टर पवन गोयल, ज्वाइन डायरेक्टर डॉक्टर गुलशन अरोड़ा, मेजर जनरल संजय हुड्डा जीओसी 9 इन्फेंट्री डिविजन सहित सेना के कई अधिकारी व जिला चिकित्सा विभाग तथा प्रशासनिक अधिकारी उपस्थित रहे। इस दौरान सेना के अधिकारियों व जिला प्रशासन के अधिकारियों ने आपस में औपचारिक मुलाकात करके एक दूसरे के साथ सुझाव भी साझा किए तथा मेडिकल कॉलेज के तीनों वार्डों, लेब और ओपीडी का निरीक्षण भी बारिकी से किया गया।

व्यापार संगठनों की मांग : सभी दुकानें सुबह 6 से 11 बजे तक खोली जाएं

व्यापार संगठनों की मांग : सभी दुकानें सुबह 6 से 11 बजे तक खोली जाएं

फरीदाबाद, 11 म‌ई। व्यापार मंडल ने मुख्यमंत्री मनोहर लाल एवं केंद्रीय राज्यमंत्री कृष्णपाल गुर्जर एवं गृहमंत्री अनिल विज से मांग की है कि लॉक डाऊन की इस अवधि में एक सीमित समय के लिए सभी दुकानों को खोलने की अनुमति दी जानी चाहिए। व्यापार मंडल फरीदाबाद के प्रधान जगदीश भाटिया, ओल्ड फरीदाबाद के प्रधान नीरज मिगलानी, बल्लभगढ़ बस अडडा मार्केट ऐसोसिएशन के प्रधान प्रेम खटटर एवं जवाहर कालोनी मार्केट एसोसिएशन के प्रधान नीरज भाटिया ने कहा है कि लॉकडाऊन की नई गाईड लाईन में बहुत सी दुकानों को खोलने की अनुमति प्रदान की गई है। जबकि बहुत से व्यापारियों की दुकानों को बंद रखा गया है। ऐसे में जिले के सभी व्यापारियों की मांग है कि सुबह 6 बजे से लेकर सुबह 11 बजे तक सभी दुकानों को खोलने की अनुमति दी जाए। इसके बाद सभी दुकानों को बंद करवा दिया जाए। 

इस नीति से जहां व्यापारियों को भेदभाव से राहत मिलेगी, वहीं सभी दुकानों के खुलने से लोगों को भी सामान खरीदने में राहत प्रदान की जा सकेगी। व्यापार मंडल फरीदाबाद के प्रधान जगदीश भाटिया ने कहा कि सुबह 6 से सुबह 11 बजे तक पांच घंटे के लिए बाजार की सभी दुकानें खुलने से जहां व्यापारी वर्ग को काफी राहत मिलेगी, वहीं आम जनता को भी इससे लाभ होगा। दुकानदारों के सामने रोजी रोटी का संकट काफी हद तक सुलझ जाएगा। लेकिन इस टाईम के तत्काल बाद सभी दुकानों को बंद करवा दिया जाए, ताकि बाजार में लोगों की दिन भर भीड़ जुटी ना रहे। श्री भाटिया ने सीएम मनोहर लाल, केंद्रीय राज्यमंत्री कृष्णपाल गुर्जर एवं गृहमंत्री अनिल विज से अपील की है कि इस नियम को लागू करवा दिया जाए, ताकि जिले के व्यापारी एवं जनता को राहत मिल सके और लॉकडाऊन भी लागू रह सके। इससे सरकार को भी लाभ मिलेगा और लॉकडाऊन के सभी नियमों को आसानी से पालन करवाया जा सकेगा।

लॉकडाउन के नियमों का पालन करवाने में फरीदाबाद पुलिस कर रही कड़ी मेहनत

लॉकडाउन के नियमों का पालन करवाने में फरीदाबाद पुलिस कर रही कड़ी मेहनत

फरीदाबाद, 11 म‌ई। पुलिस आयुक्त श्री ओ पी सिंह के कुशल नेतृत्व की बदौलत फरीदाबाद पुलिस लॉकडाउन के दौरान लोगों से नियमों का पालन करवाने में सफल रही है।

कोरोना महामारी के दौरान फरीदाबाद पुलिस द्वारा लोगों को इस महामारी से सुरक्षित रखने की हर संभव कोशिश की जा रही है।

फील्ड ड्यूटी में तैनात पुलिसकर्मी लोगों को घर में सुरक्षित रहने के लिए जागरूक कर रहे हैं और साथ ही नियमों की अवहेलना करने वालों के खिलाफ सख्त कानूनी कार्रवाई भी की जा रही है।


बीट में तनाव पुलिस कर्मियों द्वारा 208605 लोगों को कोरोना महामारी के बारे में जागरूक किया गया है। 73841 लोगों को मास्क वितरित किए गए और 49018 लोगों की कांटेक्ट ट्रेसिंग की गई।साथ ही 32584 लोगों के मास्क के चालान काटकर 1 करोड़ 62 लाख 92 हजार रुपयों का जुर्माना लगाया गया।

वहीँ लॉकडाउन के दौरान नियम तोड़ने वालों के खिलाफ दर्ज 242 मुकदमों में 309 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है जिनमें दवाओं और ऑक्सीजन सिलेंडर की कालाबाजारी करने वाले 11 लोग शामिल हैं।

श्री सिंह ने कहा कि इस महामारी पर नियंत्रण पाने में फरीदाबाद के नागरिकों का भी अहम योगदान है और वह भविष्य में भी इसी प्रकार लोगों द्वारा कोविड नियमों का पालन करने की उम्मीद करते हैं। यदि सभी नागरिक पुलिस प्रशासन का सहयोग करें तो इस महामारी पर आसानी से नियंत्रण पाया जा सकता है इसलिए नागरिक अपने परिवार सहित घर पर सुरक्षित रहें, इस समय यही पुलिस प्रशासन के कार्यों में सबसे बड़ा योगदान है।

विद्यार्थियों के लिए उम्मीद की नई किरण बना है मिशन जागृति का बुक बैंक

विद्यार्थियों के लिए उम्मीद की नई किरण बना है मिशन जागृति का बुक बैंक

फरीदाबाद, 11 म‌ई। मुश्किल समय में मिशन जागृति का बुक बैंक विद्यार्थियों के लिए उम्मीद की एक नई किरण है। मिशन जागृति संस्था इस करोना काल में लगातार लोगों की निस्वार्थ भाव से सेवा कर रही है जहां मिशन जागृति ऐसे व्यक्तियों का अंतिम संस्कार कर रही है जिनका अपना कोई नहीं है या कोई साथ भी नहीं आ रहा वहीं लोगों को मास्क पहनने के लिए और प्लाज्मा दान करने के लिए भी जागरूक कर रही है। मिशन जागृति के संगठन सचिव और बुक बैंक के संयोजक दिनेश राघव ने बताया कि इस महामारी के दौरान मिशन जागृति के द्वारा लगातार विद्यार्थियों के लिए हमारा बुक बैंक काम कर रहा है अभी तक हम लगभग 170 बच्चों की मदद कर पाए हैं। हमारे बुक बैंक में कक्षा 1 से लेकर इंजीनियरिंग वकालत और दूसरे कोर्सों की भी किताबें लोगों ने दान में दी हुई है जिनको पढ़ने वाले बच्चे हमारे पास आकर लगातार अपनी पढ़ाई पूरी कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि जब लोगों के पास नौकरियां नहीं है उस वक्त अपने बच्चों की किताबें लाने के लिए पैसे नहीं है लोगों के पास तब मिशन जागृति का बुक बैंक एक आशा की किरण के रूप में सामने आता है और बच्चों को पढ़ाई करने में मदद करते हुए उनको किताबें देता है। इस मुहिम में राजेश भूटिया और अशोक भटेजा का विशेष सहयोग रहता है। मिशन जागृति के अध्यक्ष विपिन शर्मा ने बताया कि जहां कहीं से भी हमको फोन आता है हमारे वॉलिंटियर्स उनके पास जाकर किताबें  लाते हैं और बुक बैंक में रखते हैं। मिशन जागृति के संस्थापक प्रवेश मालिक ने बताया कि बुक बैंक और लाइब्रेरी की प्रेरणा उनको उनके गुरु डॉक्टर सुभाष श्योराण से मिली उनके ही मार्ग निर्देशन में सारी टीम काम कर रही है। मिशन जागृति के सामाजिक कामों में हमारे संरक्षक आदरणीय तेजपाल सिंह, मुनेश पंडित, कविंद्र चौधरी ,जिला अध्यक्ष विवेक गौतम, महिला जिला अध्यक्ष सुनीता रानी, सलाहकार अंकुर शरण, लाइफ कोच अर्जुन गौड़ के साथ-साथ पूरी टीम का भरपूर साथ रहता है।

सरब गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी ने किया आह्वान : निवास पर ही दिवंगत आत्माओं के लिए करें अरदास

सरब गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी ने किया आह्वान : निवास पर ही दिवंगत आत्माओं के लिए करें अरदास

फरीदाबाद, 11 म‌ई (रैपको न्यूज़)। सरब गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी ने समस्त संगत से आग्रह किया है कि वे अपने नजदीकी लोगों की मृत्यु उपरांत अन्तिम अरदास अथवा उठाला के लिए गुरुद्वारा परिसर की बजाय अपने निवास पर ही दिवंगत आत्मा के लिए अरदास करे अन्यथा गुरुद्वारों में आयोजित ऐसे कार्यक्रम में बहुत सीमित संख्या में शामिल हों।

यहां विभिन्न गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटियों से जुड़े प्रतिनिधियों की बैठक में सरब गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के महासचिव स. रविंदर सिंह राणा ने कहा कि ऐसे कार्यक्रमों से बचा जाना चाहिए।

पार्षद जसवंत सिंह ने कहा कि कोविड 19 के मद्देनजर इकट्ठ से बचा जाना चाहिए।

एन एच एक गुरुद्वारा गुरु श्री सिंह सभा के स. मंजीत सिंह, गुरुद्वारा श्री दरबार साहिब के इन्द्रजीत सिंह राजा, गुरप्रीत सिंह गोल्डी, काला सिंह, महिन्दर सिंह, स. बरकत सिंह, पंजाबी सेवा दल के महासचिव एडवोकेट नरेंद्र सिंह कंग, जसविंद्र सिंह काका, जितेंद्र सिंह, गुरमीत सिंह, जसमीत सिंह नन्हा, प्रितपाल सिंह, सरबजीत सिंह, श्री दरबार साहिब कमेटी के पूर्व प्रधान स्व. संतोख सिंह के भाई हरबंस सिंह, पुत्र अमरीक सिंह, पुत्री सुरजीत कौर ने भी कोविड मानकों की पालना का आह्वान किया।